ट्विटर कभी BJP के राजनीतिक विरोध की आत्मा था, आज बोझ बन गया है: शिवसेना

ट्विटर कभी BJP के राजनीतिक विरोध की आत्मा था, आज बोझ बन गया है: शिवसेना
0 0
Read Time:3 Minute, 40 Second
उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

सामना ने कहा-पहले ट्विटर बीजेपी के राजनीतिक विरोध या फिर प्रचार की आत्मा हुआ करता था लेकिन अब वो एक बोझ बन चुका है जिसे केंद्र की मोदी सरकार उतारकर फेंक देना चाहती है.’

नई दिल्ली. केंद्र सरकार और ट्विटर में चल रहे विवाद के बीच शिवसेना के मुखपत्र सामना में बीजेपी पर आरोप लगाया गया है. मुखपत्र में कहा गया है कि ट्विटर अब केंद्र सरकार के लिए बोझ बना गया है जिसे वो बाहर फेंक देना चाहती है. सामना ने कहा-पहले ट्विटर बीजेपी के राजनीतिक विरोध या फिर प्रचार की आत्मा हुआ करता था लेकिन अब वो एक बोझ बन चुका है जिसे केंद्र की मोदी सरकार उतारकर फेंक देना चाहती है.’

संपादकीय में आरोप लगाया गया है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल चरित्र हनन के लिए किया गया था. कहा गया है-बीते कुछ सालों में सोशल मीडिया पर दोषारोपण और चरित्र हनन के अभियान चलते रहे हैं. बीजेपी से बेहतर इस बात को कोई दूसरी राजनीतिक पार्टी नहीं जानती कि इसका कैसे इस्तेमाल करना है. 2014 में बीजेपी इसका बखूबी इस्तेमाल किया था. उस समय प्रचार अभियान के दौरान बीजेपी जमीन से ज्यादा साइबर वर्ल्ड में एक्टिव थी.

विपक्षी नेताओं पर सोशल मीडिया पर हमलों पर किए सवाल

सामना ने सवाला किए-आखिर किस नियम के तहत ट्विटर-फेसबुक पर राहुल गांधी के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया गया? डॉ. मनमोहन सिंह जैसे वरिष्ठ नेता के लिए आखिर किस तरह के विशेषणों का इस्तेमाल किया गया? सार्वजनिक सेवा में अपनी जिंदगी गुजारने वाले उद्धव ठाकरे से लेकर ममता बनर्जी, शरद पवार, प्रियंका गांधी, मुलायम सिंह यादव जैसे नेताओं विपक्षी नेताओं के चरित्र हनन का अभियान सोशल मीडिया पर चलाया गया.अब विपक्ष ने जवाब देना सीख लिया तो बीजेपी में बौखलाहट

संपादकीय में कहा गया है कि अब विपक्ष ने सीख लिया है कि ट्विटर का बेहतर इस्तेमाल कैसे किया जाए. पश्चिम बंगाल और बिहार जैसे राज्य बीजेपी के नेताओं के भीतर चिंता पैदा कर रहे हैं. जब तक ये हमले एकतरफा हो रहे थे तब तक बीजेपी के सदस्य खुश थे. लेकिन अब जब विपक्ष ने हमले शुरू किए हैं तो बीजेपी में चिंता का माहौल पैदा हो गया है. पश्चिम बंगाल में महुआ मोइत्र और डेरेक ओ ब्रायन तो बिहार में तेजस्वी यादव ने ट्विटर के जरिए मोदी और नीतीश कुमार की पोल खोली.




 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
%d bloggers like this: